लौंग के उपयोग, लाभ और दुष्प्रभाव क्या है ? – What Are The Uses, Benefits And Side Effects Of Cloves

लौंग पेड़ की फूल की कलियाँ हैं। इसका scientific नाम Syzygium aromaticum है। इसका उपयोग पूरे रूप में या पाउडर के रूप में किया जाता है। clove एक बहुमुखी मसाला है जिसका उपयोग कई खाद्य पदार्थों जैसे गर्म पेय, कुकीज़ और केक में किया जाता है। clove लौंग एक दुर्लभ खनिज का एक समृद्ध स्रोत है जो mangnese है, और यह कम कैलोरी में मदद करता  है। लौंग का आयुर्वेद में औषधीय स्वास्थ्य लाभों के कारण महत्व है। लौंग में एक शक्तिशाली antioxidant होता है जो Eugenol के स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

clove as flower bud
clove as flower bud

आयुर्वेद के अनुसार लौंग को संस्कृत में लौंग कहा जाता है, जो पाचक अग्नि को बढ़ाने में लाभकारी है।

 

इसके गर्म करने वाले गुणों या clove  की तीखी गर्म प्रकृति के कारण, इसका उपयोग गर्मियों के बजाय सर्दियों के दौरान किया जाता है। लौंग के कसैले और तीखे स्वभाव के कारण कफ और वात दोष को शांत करने के लिए उपयुक्त हैं। लौंग में bioactive होता है, जिसमें diaphoretic गुण होते हैं, और ये शरीर द्वारा उत्पादित toxinsपदार्थों को बाहर निकालने में अच्छे होते हैं।

🍀 हमें लौंग कहाँ मिलती है ?

लौंग की खेती मुख्य रूप से ज़ांज़ीबार, Indonesia, पेम्बा और लौंग के महत्वपूर्ण उत्पादकों जैसे विदेशी देशों में की जाती है। India में, लौंग का उत्पादन केरल, तमिलनाडु और कर्नाटक जैसे राज्यों के पहाड़ी क्षेत्रों में किया जाता है।

इसे भी पढ़े -   इलाइची के पोषण संबंधी तथ्य और स्वास्थ्य लाभ क्या हैं ? - What Are The Nutritional Facts And Health Benefits Of Cardamon ?

🍀 लौंग के अन्य नाम क्या हैं ?

भारत में क्षेत्रीय भाषाओं के आधार पर लौंग के अलग-अलग नाम हैं।

  • लौंग को हिंदी में लौंग के नाम से जाना जाता है।
  • बंगाली में लौंग को लवांग के नाम से जाना जाता है।
  • गुजराती में  लवंग के नाम से जाना जाता है।
  • कन्नड़ में  लवंगा के नाम से जाना जाता है।
  • मलयालम में  ग्राम्बू कहते हैं।
  • मराठी में लवंग के नाम से जाना जाता है।
  • मिल में किरंबू के नाम से जाना जाता है।
  • तेलुगु में लवंगालु के नाम से जाना जाता है।

    cloves लौंग
    cloves लौंग

🍀 लौंग के स्वास्थ्य लाभ

सूजन में कमी

लौंग में कई ऐसे यौगिक होते हैं जिनमें सूजन-रोधी गुण होते हैं। लौंग के अन्य सभी उपहारों में eugenol एक घटक है। शोध से पता चला है कि eugenol में गठिया जैसी बीमारी के जोखिम को कम करने के लिए शरीर में anti-inflammatory प्रतिक्रिया शामिल है।

खांसी का इलाज

लौंग अपने एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण के कारण खांसी के प्रबंधन में बहुत मददगार है। लौंग में एक एक्सपेक्टोरेंट गुण होता है जो बलगम के स्राव को बाहर निकालने में मदद करता है। यह खांसी को कम करने में और मदद करेगा।

मुँहासे का उपचार

जी हां, मुंहासे और फुंसी के इलाज में लौंग बहुत कारगर है। लौंग में जीवाणुरोधी यौगिक होते हैं जो बैक्टीरिया स्टैफिलोकोकस ऑरियस कोशिकाओं को प्रभावी ढंग से मारते हैं, जो मुँहासे की समस्या पैदा करने के लिए प्रमुख रूप से जिम्मेदार होते हैं।

अल्सर

पेट को ulcer से बचाने में लौंग बहुत फायदेमंद होती है। ulcer का प्राथमिक कारण पेट की परत में बलगम की परत का पतला होना है। शोध अध्ययनों से पता चला है कि लौंग बलगम को गाढ़ा करने में मदद करती है, जिससे ulcer होने का खतरा और कम हो जाता है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना

इम्युनिटी बढ़ाने में लौंग फायदेमंद है। लौंग में एक प्रमुख बायोएक्टिव घटक यूजेनॉल में पर्याप्त इम्युनोमोडायलेटरी गुण होता है जो प्रतिरक्षा प्रणाली के कार्य को संशोधित करने में मदद करता है। इसलिए, यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए दवाओं के प्रभाव को दबाने में मदद करता है।

लीवर की बेहतर कार्यप्रणाली

लीवर की बेहतर कार्यप्रणाली को बढ़ावा देने के लिए लौंग बहुत कारगर है। शोध अध्ययनों से पता चला है कि लौंग में मौजूद यूजेनॉल liver cirrhosis के लक्षणों को कम करने में मदद करता है।

लौंग और हाइपोग्लाइसीमिया

आहार में लौंग के नियमित सेवन से blood sugar के स्तर को नियंत्रित करने में मदद मिलती है। लौंग का eugenol एक आवश्यक घटक है जो blood sugar के स्तर को कम करने में मदद करता है।

लौंग और फ्री रेडिकल रिडक्शन पर इसका प्रभाव

लौंग में मौजूद eugenol को एक शक्तिशाली antioxidant के रूप में जाना जाता है। तनाव के दौरान शरीर में उत्पन्न होने वाले मुक्त कणों को कम करने और लड़ने के लिए antioidant प्रमुख रूप से कार्य कर रहा है। फ्री radicals शरीर में कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने के लिए जिम्मेदार होते हैं। क्षति आगे हृदय रोग, मधुमेह, और कुछ कैंसर के विकास के जोखिम के लिए जवाबदेह है।

🍀 लौंग के अन्य स्वास्थ्य लाभ

  • लौंग के घटकों के एंटीमैटिक गुण के कारण, यह उल्टी और मतली को कम करने में मदद करता है।
  • लौंग का यूजेनॉल हृदय रोगों और छाती, साइनस कंजेशन आदि जैसी अन्य समस्याओं को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करता है।
  • यूजेनॉल ने दांत दर्द को नियंत्रित करने में अपनी प्रभावशीलता दिखाई है, और इसलिए इसे टूथपेस्ट में शामिल किया गया है।
  • लौंग का यूजेनॉल सांसों की दुर्गंध से लड़ने में भी मददगार होता है।
  • लौंग में अच्छी मात्रा में एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में सहायक होते हैं।
  • लौंग का उपयोग भारतीय और चीनी पारंपरिक दवाओं में उत्तेजक और गर्म करने वाले एजेंट के रूप में किया जाता है।

🍀 लौंग का उपयोग करते समय दुष्प्रभाव और सावधानियां

cloves-
cloves-
  1. सीधे त्वचा पर बिना पतला लौंग का तेल लगाने से बचा जाता है क्योंकि यह त्वचा को जला और नुकसान पहुंचा सकता है।
  2. गरम होने कारण पहले त्वचा के एक छोटे से क्षेत्र पर लौंग के तेल और पाउडर को लगा कर जाँच ले l यह एक छोटा एलर्जी परीक्षण करने की सिफारिश है ।
  3. यूजेनॉल लोगों के कुछ विशिष्ट समूह के प्रति अतिसंवेदनशील है; इसलिए, डॉक्टर से कुछ सलाह लेना जरूरी है।

🍀 सारांश

लौंग का उपयोग स्वादिष्ट भोजन बनाने के लिए किया जाता है और औषधीय योगों की तैयारी के लिए उपयोग किया जाता है, जो कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं। लौंग के गर्म और गर्म गुणों के कारण लौंग के सेवन का सही समय सर्दी का मौसम है, जो शरीर को गर्म रखेगा। लौंग में मौजूद यूजेनॉल एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है। लौंग में एक जीवाणुरोधी गुण होता है जो सिंथेटिक खाद्य परिरक्षकों को बदलने में मदद करता है।