Category: History Tips

Lata Mangeshkar

संगीत की दुनिया में “भारत की कोकिला” लता मंगेशकर – “Nightingale Of India” Lata Mangeshkar In World Of Music

?”मेलोडी की रानी” / “भारत की कोकिला” लता मंगेशकर, (जन्म 28 सितंबर, 1929, इंदौर, ब्रिटिश भारत—मृत्यु 6 फरवरी, 2022, मुंबई, भारत), महान Indian Legendary Singer ने अपनी विशिष्ट आवाज और तीन से अधिक सप्तक तक फैली एक मुखर श्रृंखला के लिए विख्यात किया। उनका career लगभग छह दशकों तक चला, और उन्होंने 2,000 से अधिक Indian films के soundtrack के लिए गाने record किए। 28 सितंबर, 1929 को Pandit Deenanath Mangeshkar और उनकी पत्नी शेवंती के घर जन्मी Lata Mangeshkar ने अपने पिता, नाना और अमन अली खान साहिब और अमानत खान जैसे कई उस्तादों से अपनी प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त

आगे पूरा पढ़े -
History Of Famous Hauz Khaz Village In Delhi

युवाओं में दिल्ली के प्रसिद्ध हौज खास गांव का इतिहास -History Of Famous Hauz Khaz Village In Delhi In Youngster

युवाओं की पसंद हौज खास South Delhi  में हौज़ खास विलेज (Hauz Khas Village) एक शहरी Hangout Spot है और साथ ही एक  Heritage place है जो Delhi Sultanate के शासनकाल के लिए अपनी जड़ें दिखाता है। जितना Wonderful यह लग सकता है, यह एक Posh जगह है, एक Historical complex है, और एक Upscale Hub है, सभी एक में लुढ़का हुआ है। हौज खास जहां  Modern restaurants, pubs, cafes, shopping places, और boutique की एक Wide range के साथ अपने  Upbeat vibes को रखता है, वहीं यह ऐतिहासिक परिसर के माध्यम से अपने पुराने World Attraction को भी बरकरार

आगे पूरा पढ़े -
Indian traitors

जानिए भारतीय देशद्रोहियों को जिन्होंने भारत का इतिहास बदल दिया – Know Indian Traitors That Twist Indian History

यदि हमारे इतिहास के पन्ने वीरतापूर्ण कार्यों, परोपकारी सेवाओं और मानवता के अन्य विस्मयकारी प्रदर्शनों से अलंकृत हैं, तो यह भारतीय गद्दारों के लालच, ईर्ष्या से भी रंगा हुआ है। इतिहास का एक मौलिक नियम है कि कभी भी इतिहास का न्याय न किया जाए क्योंकि यह समय-समय पर लोगों और समाजों की कहानियों को मौलिक रूप से भिन्न मूल्यों, नैतिकता की अवधारणा, संस्थानों आदि के साथ मिलाता है। हालाँकि दुर्भाग्यपूर्ण वास्तविकता यह है कि जनता इतिहास को एक संकीर्ण दृष्टि से देखती है। भारतीय देशद्रोहियों को जिन्होंने भारत का इतिहास बदल दिया : मीर जाफर – Mir Jafar  

आगे पूरा पढ़े -
Hawa Mahal

हवा महल के बारे में जानिए कुछ रोचक तथ्य ?Know some interesting facts about Hawa Mahal

हवा महल का इतिहास History of Hawa Mahal हवा महल भारत के जयपुर Jaipur city, Rajesthan शहर में स्थित एक महल palace है। इसका नाम हवा महल Hawa Mahal इसलिये रखा गया क्योकि महल में महिलाओ ladies के लिये ऊँची दीवारे High Walls बनी हुई है ताकि वे आसानी से महल के बाहर हो रहे उत्सवो का अवलोकन Image overview कर सके और उन्हें देख सके। यह महल लाल और गुलाबी बलुआ पत्थरो Red and pink sandstone से बना हुआ है। यह महल सिटी पैलेस City Palace के किनारे पर ही बना हुआ है।  हवा महल का निर्माण कार्य Construction work

आगे पूरा पढ़े -
Essay On Sati Pratha In Hindi

सती प्रथा घनघोर पाप या एक अभिशाप Sati practice pouring sin or a curse

सती प्रथा क्या है What is the practice of sati ? सती कुछ पुरातन भारतीय समुदायों (Ancient Indian communities) में प्रचलित एक ऐसी धार्मिक प्रथा (Such religious practice) थी, जिसमें किसी पुरुष की मृत्त्यु (Man’s death) के बाद उसकी पत्नी उसके अंतिम संस्कार (Funeral) के दौरान उसकी चिता में स्वयमेव प्रविष्ट (Automatically entered) होकर आत्मत्याग (Suicide) कर लेती थी। 1829 में अंग्रेजों द्वारा भारत में इसे गैरकानूनी घोषित (Outlawed) किए जाने के बाद से यह प्रथा प्रायः समाप्त हो गई थी । वास्तव मैं सती होने के इतिहास (history) के बारे मे पूर्ण सत्यात्मक (Absolute truth) तथ्य नही मिले हैं।

आगे पूरा पढ़े -
Ertugrul Gazi History Hindi

एर्तुग़रुल ग़ाज़ी एक ऐतिहासिक व्यक्ति ? Ertugrul Ghazi is a historical person

एर्तुग़रुल ग़ाज़ी : एक वीर चैंपियन सेनानी ? Ertugrul Ghazi: A Heroic Champion Fighter एर्तुग़रुल ग़ाज़ी  (सन् 1280) उस्मान प्रथम के पिता थे। और सुलेमान शाह के तीसरे फ़रज़न थे l  उस्मानी साम्राज्य परंपरा के हिसाब से, वह ओगुज़ तुर्क के कायि जनजाति (tribe) के नेता सुलेमान शाह के बेटे थे, जो मंगोल आक्रमण (attack) से बचने के लिए पश्चिमी मध्य एशिया से अनातोलिया जा कार बस गया था, अपने पिता की मृत्यु के बाद, एर्तुग़रुल और उनके अनुयायियों ने सल्तनत ऑफ रोम की सीमा में प्रवेश किया, जिसके लिए उन्हें बाइज़ेंटाइन साम्राज्य (the empire) के साथ सीमा पर सोजत शहर पर

आगे पूरा पढ़े -
Agrasen’s Baoli

अग्रसेन की बावली के बारे में जानिये कुछ अनसुने राज़ Know some unheard secrets about Agrasen Baoli

अग्रसेन की बावली का इतिहास? History of Agrasen Baoli देश की राजधानी Country capital व दिल, दिल्ली Delhi अपने भव्य इतिहास History और समृद्ध वर्तमान Rich present के लिए जाना जाता है। यह शहर city कई ऐतिहासिक स्मारकों Historical monuments को अपने में समेटे हुए, इतिहास और आज के समय का सबसे सटीक व अखंड मिश्रण Precise and monolithic mixture है। इन्हीं इतिहासों में से एक है दिल्ली के सबसे समृद्ध क्षेत्र कनॉट प्लेस Connaught Place में स्थित अग्रसेन की बावली Agrasen Baoli, जो यहाँ के निवासियों के रोज़ाना की ज़िन्दगी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा Important part है। यह ऐसे

आगे पूरा पढ़े -
History Behind Bhangarh Fort History In Hindi

भानगढ़ किले का इतिहास और दिलचस्प कहानी History Behind Bhangarh Fort History In Hindi

Bhangarh Fort Mystery And Story History In Hindi भूतो का भानगढ़ Ghost of bhangarh History In Hindi देखा जाये तो हमारे देश में बहुत से हॉन्टेड प्लेस Hunted Place यानि की भूतिया जगह India’s Most Haunted Places in Hindi है परन्तु दोस्तों इस सूचि में जिसका नाम सबसे ऊपर आता है वो है भानगढ़ का किला (Bhangadh Fort)। जो कि आम बोलचाल में “भूतो का भानगढ़” नाम से ज्यादा प्रसिद्ध है। भानगढ़ (Bhangarh) कि कहानी बड़ी ही रोचक है 16 वि शताब्दी में भानगढ़ बसता है। 300 सालो तक भानगढ़ खूब फलता फूलता है। फिर यहाँ कि एक सुन्दर राजकुमारी

आगे पूरा पढ़े -
Know About State Of India 'Sikkim'

जानिए भारत के राज्य सिक्किम के बारे में – Know About State Of India ‘Sikkim’

सिक्किम भारत का राज्य है, जो पूर्वी हिमालय में, देश के उत्तरपूर्वी भाग में स्थित है। यह भारत के सबसे छोटे राज्यों में से एक है। सिक्किम की सीमा चीन के तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र से उत्तर और उत्तर-पूर्व में, भूटान से दक्षिण-पूर्व में, भारतीय राज्य पश्चिम बंगाल से और दक्षिण में नेपाल से पश्चिम में है। सिक्कम की राजधानी गंगटोक है। इतिहास – History सिक्किम ने भूटान और नेपाल दोनों के साथ 18 वीं सदी के मध्य में कई क्षेत्रीय युद्ध लड़े I इस अवधि के दौरान सिक्किम में नेपाली का सबसे बड़ा प्रवासन शुरू हुआ। 1816 में इन क्षेत्रों

आगे पूरा पढ़े -
tulsidas ji

गोस्वामी तुलसीदास का जीवन परिचय ? Biography of Goswami Tulsidas in Hindi

जीवन परिचय (1532-1623) ऐसा माना जाता है कि तुलसीदास Tulsidaas का जन्म सन 1532 में बांदा जिले के राजापुर Rajapur of Banda district गांव में हुआ था| कुछ विद्वानों Scholars के अनुसार इनका जन्म सोरों Soron में हुआ था| और कुछ लोगो का कहना है की तुलसीदास जी का जन्म 1511 ई. में हुआ था। इनके जन्म स्थान के बारे में काफी मतभेद A lot of differences है, परन्तु अधिकांश विद्वानों के अनुसार इनका जन्म राजापुर, चित्रकूट जिला, उत्तर प्रदेश Rajapur, Chitrakoot District, Uttar Pradesh में हुआ था। इनके बचपन का नाम रामबोला था और इनके पिता जी का नाम

आगे पूरा पढ़े -
%d bloggers like this: