पेट की चर्बी को कैसे करे कम घरेलू उपचारों से? 🤰 How to reduce belly fat with Home remedies? in Hindi

दुनिया में आधे से ज्यादा लोग हैं निकलती तोंद से परेशान 🤰 More than half of the people in the world are troubled by belly fat

दुनिया में आजकल की जो भागदौड़ भरी ज़िन्दगी हैं उसमे अपना ख्याल रख पाना बेहद मश्किल हैं इसमें हम अपने शरीर का ध्यान Care of health नही रख पाते हैं ऐसे में कोई हद से ज्यादा पतला और कोई हद से ज्यादा मोटा हो रहा हैं जो की एक चिंता का विषय Matter of concern हैं | किसी को यह कहना बहुत ही आसान है कि अपनी तोंद कम करों। परंतू क्‍या तोंद कम (Reduce Belly Fat) करना और वजन घटना इतना आसान है? वजन कम करना, खास कर पेट के चारों ओर जमी अतिरिक्त चर्बी (Frozen Fat) को कम करना कुछ लोगों के लिए आसान नहीं है पर यह उतना मुश्किल भी नहीं है। किसी भी व्‍यक्ति के पेट में जब फैट अधिक मात्रा (Extra quantity) में जमा हो जाता है उसे तोंद निकलना कहते हैं। पेट की चर्बी या तोंद को कम करना आसान नहीं है। आप सभी जानते हैं कि मोटापा या तोंद एक बीमारी की तरह ही है जो अन्‍य कई गंभीर बीमारियों (Many other serious diseases) का कारण बन सकता है। लेकिन तोंद कम करने के लिए लोग कई प्रकार के आहार और व्‍यायाम आदि का उपयोग करते हैं जो कि बहुत ही प्रभावी भी होते हैं।

अलग अलग जीवनशेली और शरीर का प्रकार 🤰 Different lifestyles and body types

  • वजन बढ़ने के कई कारण हो सकते हैं लेकिन मोटापे को कम करने के आयुर्वेदिक तरीके भी होते हैं। आयुर्वेद एक ऐसा तरीका है जो आपकी तोंद को कम करने और जिद्दी बेली फेट से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकता है।
  • ज़रूरत से ज्यादा पेट वसा कई गंभीर स्वास्थ्य स्थितियों के बढ़ते जोखिम से जुड़ा हुआ है। वजन घटाने के लिए यहां 7 सबसे प्रभावी आयुर्वेदिक औषधी के बारे में बताया गया हैं।
  • इस लेख में आप पेट की चर्बी दूर करने के आयुर्वेदिक उपाय संबंधी जानकारी प्राप्‍त करेगें। वजन घटाने के उपचार या तकनीक जो किसी के लिए काम करने लगती है वह दूसरे व्यक्ति के लिए भी सहायक हो ऐसा नहीं है।
  • हर इंसान की एक अलग जीवन शैली, शरीर का प्रकार(Body Type), आनुवांशिकी (Genetic), संभव चिकित्सा स्थितियां हैं ये सभी फिटनेस परिणाम प्राप्त करने और बनाए रखने के लिए एक व्यक्ति की क्षमता में भूमिका निभाते हैं।
  • लेकिन, अच्छी खबर यह है कि वजन कम करने के लिए एक सरल, लेकिन प्रभावी उपचार (Effective treatment) मौजूद है जो लिंग, आयु आदि की परवाह किए बिना
  • उस अतिरिक्त चर्बी को दूर करने की कोशिश करने में किसी की भी मदद कर सकता है, जी हां हम बात कर रहे हैं “आयुर्वेद” की। वजन घटाने के आयुर्वेदिक तरीके अपनाने से आपको न केवल उस जिद्दी पेट की चर्बी (Stubborn belly fat) को कम करने में मदद मिलती है बल्कि जीवनशैली से जुड़ी कई बीमारियों पर भी अंकुश लगता है।
इसे भी पढ़े -   ड्राई फ्रूट्स के अद्भुत फायेदे 🥜 Amazing Benefits of Dry Fruits in Hindi Tips

पेट की चर्बी कम करने के लिए कुछ खाश घरेलु नुस्खे 🤰 Some home remedies to reduce belly fat

इसके अलावा, अतिरिक्त पेट की चर्बी कई गंभीर स्वास्थ्य स्थितियों जैसे हृदय रोग, स्ट्रोक, मोटापा, मधुमेह, कुछ कैंसर आदि के बढ़ते जोखिम से जुड़ी होती है, यहाँ कुछ  शक्तिशाली आयुर्वेदिक तत्व या घरेलु उपाए दिए गए हैं जो आयुर्वेद द्वारा वजन कम करने और जिद्दी पेट वसा से छुटकारा पाने के लिए जाने जाते हैं।

1.पेट की चर्बी कम करने के लिए गार्सिनिया कैंबोगिया 🤰 Garcinia Cambogia for weight loss in Hindi

वजन कम करना सुनने में जितना आसान लगता है उतना आसान नहीं है। क्‍या आप पेट की चर्बी करने के लिए कई प्रयास कर चुके हैं और आपको सफलता नहीं मिली है। घबराएं नहीं आपके पेट का वजन को कंट्रोल करने के आयुर्वेदिक उपाय भी होते हैं। मोटापे की समस्‍या को दूर करने के लिए आप आयुर्वेदिक औषधि गुग्‍गुल का उपयोग कर सकते हैं। गुग्‍गुल कॉमिपोरा मुकुल (Commiphora Mukul) वृक्ष से प्राप्‍त एक प्रकार की राल होती है। जिसे गुग्गुलस्‍टरोन ( Guggulsterone: Guggulsterone is a phytosteroid found in the resin of the guggul plant, Commiphora mukul. Guggulsterone can exist as either of two stereoisomers ) के नाम से भी जाना जाता है। यह वजन घटाने में बहुत ही प्रभावी होता है। आप अपना बढ़ता वजन नियंत्रित करने के लिए गुग्‍गुल का उपयोग कर सकते हैं। क्‍योंकि यह शरीर में कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स को कम करने में सहायक होता है। आप अपनी तोंद कम करने या अपने थुलथुले पेट को कम करने के लिए आयुर्वेदिक औषधि गुग्‍गुल के लाभ ले सकते हैं।

2.तोंद घटाने का उपाय त्रिफला 🤰 Tond Ghatane Ka Triphala Upay in Hindi

बढ़ा हुआ पेट कम करने के लिए आप आयुर्वेदिक उत्‍पाद त्रिफला (Ayurvedic Product Triphala: is a powerful herbal remedy that consists of Haritaki, Bibhitaki and amla. It is used in traditional Ayurvedic medicine to prevent disease and treat a number of symptoms, including constipation and inflammation.) का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। त्रिफला बेली फेट कम करने का सबसे प्रभावी उपाय है। यह तीन प्रकार के सूखे हुए औषधीय घटकों आंवला, हर्रा और बहेड़ा को मिलाकर तैयार किया जाता है। आयुर्वेदिक चिकित्‍सा प्रणाली में प्राचीन समय में इस मिश्रण का उपयोग कई प्रकार की बीमारियों और मुख्‍य रूप से शरीर के तीन दोषों को दूर करने के लिए किया जाता रहा है। यह औषधीय और आयुर्वेदिक उत्‍पाद पाचन समस्‍याओं को दूर करने और वजन कम करने में सहायक (Helpful) होता है। नियमित रूप से त्रिफला का सेवन (Regular Triphala Powder intake) करने से यह पेट को साफ रखता है। आप अपने संपूर्ण स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर बनाए रखने के लिए भी त्रिफला का सेवन कर सकते हैं। आप अपने पेट की चर्बी को दूर करने के लिए नियमित रूप से दिन में दो बार त्रिफला चूर्ण का सेवन कर सकते हैं।

इसे भी पढ़े -   यदि आपका विवाह नहीं हो रहा है तो करें ये 20 उपाय - Things That Will Make Your Marriage Possible Soon

3.पेट कम करने का घरेलू उपाय दालचीनी 🤰 Cinnamon Home remedy to reduce stomach

हम सभी जानते हैं कि दालचीनी एक आयुर्वेदिक औषधी है जो कई स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं को दूर करने में हमारी मदद करती है। यदि आप मोटापे या बेली फेट को कम करना चाहते हैं तब भी दालचीनी आपके लिए प्रभावी होती है। दालचीनी में कई औषधीय गुण (Medicinal properties) होते हैं जिनमें चयापचय को बढ़ाने की क्षमता (Ability to increase metabolism) भी शामिल है। जो कि प्रभावी रूप से आपके वजन और पेट की चर्बी को कम करने में सहायक होता है। आप अपने पेट और कमर के मोटापे को कम करने के लिए दालचीनी की चाय का सेवन भी कर सकते हैं। नियमित रूप (Regular form) से आप सुबह के समय 1 कप दालचीनी चाय का सेवन लाभ ले सकते हैं।

4.थुलथुला पेट कम करने के लिए मेथी 🤰 Fenugreek way to get rid of belly fat in Hindi

मेथी के आयुर्वेदिक लाभ कई गंभीर स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं (Serious health problems) के लिए होते हैं। इन्‍हीं लाभों में तोंद कम करना भी शामिल है। इसका मतलब यह है कि मेथी का उपयोग आपके वजन को कम करने के लिए किया जा सकता है। मेथी पाचन तंत्र की समस्‍याओं (Digestive system problems) को दूर करने का सबसे अच्‍छा प्राकृतिक उपाय (Natural remedy) है। मेथी में गैलक्‍टोमेनान ( Galactomannan : are polysaccharides consisting of a mannose backbone with galactose side groups) नामक एक घटक होता है जो पानी में अघुलनशील है। यह लंबे समय तक आपकी भूख को नियंत्रित (Control appetite) कर सकता है जो कि आपके उभरे हुए पेट को कम करने में सहायक होता है। आप अपनी तोंद को कम करने के लिए मेथी के पाउडर का सेवन कर सकते हैं। इसके लिए मेथी के कुछ बीजों को भून लें और फिर पीसकर पाउडर (Grinding powder) बना लें। इस पाउडर को नियमित रूप से सुबह खाली पेट 1 गिलास पानी के साथ 1 चम्‍मच मेथी पाउडर (Fenugreek powder) का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा बेली फेट कम करने में मेथी का पानी भी सहायक होता है। मेथी का पानी बनाने के लिए कुछ मेथी के बीजों को 1 गिलास पानी में रात भर भीगने दें और अगली सुबह इस पानी का सेवन करें।

5.पेट कम करने का घरेलूउपाय विजयसार 🤰 Vijayasar, Home remedy to reduce belly fat

विजयसार का वानस्‍पतिक नाम पेरोकार्पस मार्सुपियम (Pterocarpus Marsupium) है। यह एक पर्णपाती वृक्ष है जिसकी छाल में औषधीय गुण होते हैं। विजयसार का उपयोग मधुमेह और विशेष रूप से मोटापे को कम करने के लिए किया जाता है। विजयसार में बेली फेट के प्रमुख कारण वसा को कम करने की क्षमता होती है। जिसके कारण यह आपके पेट की चर्बी को कम करने में प्रभावी माना जाता है। इसके अलावा विजयसार की राल और छाल (Vijayar’s resin and bark) का उपयोग पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में भी किया जाता है। आप भी अपने बढ़े हुए पेट को कम करने के लिए विजयसार की छाल का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। मोटापे को कम करने के लिए आप नियमित रूप से विजयसार की छाल से बनी चाय का सेवन करें। निश्चित ही विजयसार आपकी तोंद को कम करने में प्रभावी योगदान दे सकता है।

इसे भी पढ़े -   रूसी को जड़ से जल्द खत्म करने के घरेलु तरीके 🙋‍♂️ Tips to Eliminate Dandruff

पेट की चर्बी कम करने के लिए योगासन 🤰 Simple Yoga Asanas To Reduce Belly Fat

  • नावासन- यह आसन सीधे पेट की चर्बी को निशाना बनाता है और पेट की चर्बी कम करता है।
  • सर्वांगासन- यह आसन पैरों, कूल्हों को टोन करने और पाचन में सुधार के लिए सबसे अच्छा है।
  • वसिष्ठासन- यह आसन आपको उन एब्स से मिला सकता है जिन्हें आप हमेशा से चाहते थे।
  • वृक्षासन- इस आसन से अपनी जांघों, पैरों को टोन करें और कैलोरी को प्रभावी ढंग से जलाएं।
  • त्रिकोणासन- इस आसन की घुमादार गति मांसपेशियों (Rotating motion muscles) का निर्माण कर सकती है और पेट की चर्बी को गला सकती है।
  • सेतुबंधासन- यह मुद्रा जांघ की मांसपेशियों को टोन करने, गले और पेट क्षेत्र से अतिरिक्त वसा खोने के लिए बहुत अच्छा है।
  • धनुरासन- यह आसन पेट की चर्बी को जलाने, छाती और जांघों को मजबूत बनाने के लिए सर्वोत्तम है।
  • सूर्य नमस्कार योग- यह आसन रक्त परिसंचरण में सुधार करता है, प्रमुख मांसपेशियों को टोन करता है और पाचन तंत्र में सुधार करता है।
  • अर्ध चंद्रासन- पेट और कूल्हों को मजबूत बनाने और पाचन में सुधार के लिए इस आसन को आजमाएं।
  • अधोमुख श्वानासन- यह आसन रीढ़ की हड्डी (Spinal cord) को फैलाने और कैलोरी जलाने के लिए सबसे अच्छा है।
  • चक्की चलनासन- इस आसन को करने से कमर, पेट और कूल्हों पर जमा अतिरिक्त चर्बी (Accumulated excess fat on abdomen and hips) कम होने लगती है।
  • कपालभाति- इसे करने से पेट चमत्कारी तरीके से ठीक होता है। पेट कम करने के लिए योग में इसे जरूर करें।
  • हलासन- मोटापे से छुटकारा पाने के लिए यह बेहतरीन योगासन है। पेट की समस्याओं जैसे कब्ज और बवासीर जैसी बीमारियों में भी यह आसन किया जा सकता है।