Yoga Mudras To Reduce The Effects Of Diabetes

क्या आप तेजी से वजन कम कर रहे हैं? क्या बार-बार बाथरूम जाने की इच्छा महसूस होती है? क्या आपको लगातार प्यास और भूख लगती है? यदि उपरोक्त सभी प्रश्नों के लिए आपका उत्तर हाँ था, तो आपको तुरंत अपने डॉक्टर से अपॉइंटमेंट बुक करना चाहिए और अपने रक्त शर्करा के स्तर की जांच करवानी चाहिए। यदि आपके पास पहले से है, तो आप शायद अब तक जान गए होंगे कि आप मधुमेह रोगी हैं।

मधुमेह आज सबसे आम गैर-संचारी रोगों में से एक है, और बढ़ता तनाव और कठोर जीवन शैली समस्या का मूल कारण है। यह संभव है कि इन कारकों ने शरीर में इंसुलिन के उत्पादन को कम कर दिया हो। यह भी संभव है कि रक्त कोशिकाओं ने उत्पादित इंसुलिन के प्रति प्रतिक्रिया करना बंद कर दिया हो।

योग मधुमेह में कैसे मदद कर सकता है ?

जब आप मधुमेह का अनुबंध करते हैं, तो आपका वजन बढ़ने लगता है, आपके रक्त शर्करा का स्तर अधिक होता है और इंसुलिन का स्तर कम होता है। योग आपके वजन को नियंत्रित करता है और आपके रक्त शर्करा और इंसुलिन के स्तर को नियंत्रित रखता है। यह विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है और रक्त परिसंचरण में सुधार करता है। योग तनाव को भी कम करता है। नियमित अभ्यास से आप आगे की जटिलताओं को उलट भी सकते हैं और कम कर सकते हैं। जबकि शारीरिक आसन अत्यंत आवश्यक हैं, मुद्राएं समान या अधिक शक्तिशाली हैं। वे सरल रुख की तरह लग सकते हैं, लेकिन वे सिस्टम को मजबूत करते हैं और शरीर को भी सक्रिय करते हैं।

मधुमेह के लिए कुछ शक्तिशाली योग मुद्राएं

प्राण मुद्रा

इस मुद्रा को जीवन की मुद्रा भी कहा जाता है। इसका उद्देश्य रूट चक्र को उत्तेजित करते हुए जीवन की महत्वपूर्ण शक्ति में सुधार करना है। यह एक अत्यंत शक्तिशाली मुद्रा है जो आपको भीतर से सशक्त बनाती है। जब आप डिटॉक्स करना चाहते हैं तो यह मुद्रा अद्भुत काम करती है। जब अपान मुद्रा के साथ अभ्यास किया जाता है, तो यह मधुमेह के लक्षणों को दूर करने में मदद करता है।

Pran-mudra
Pran-mudra

आप अपनी पसंद के किसी आसन में आराम से बैठकर इस मुद्रा का अभ्यास कर सकते हैं। आप खड़े होकर भी इस मुद्रा का अभ्यास कर सकते हैं। इस मुद्रा का अभ्यास करते समय आपको अपने दोनों हाथों का उपयोग करना चाहिए। अपनी छोटी उंगली और अनामिका के सुझावों को अंगूठे की युक्तियों से स्पर्श करें और तर्जनी और मध्यमा उंगलियों को सीधा रखें। मुद्रा को पांच मिनट तक पकड़कर शुरू करें, और अभ्यास के साथ अवधि बढ़ाएं। इस मुद्रा के हर दिन तीन सेट कारगर साबित होंगे।

सूर्य मुद्रा:

सूर्य मुद्रा को सूर्य मुद्रा भी कहा जाता है। यह शरीर में अग्नि तत्व को बढ़ाने और गर्मी उत्पन्न करने के लिए जाना जाता है – इसका अर्थ है बेहतर चयापचय। नियमित अभ्यास से, आप वजन में कमी और शर्करा के स्तर में कमी देखेंगे।

-surya-mudra
-surya-mudra

सर्वोत्तम परिणामों के लिए आप वज्रासन में बैठकर इस मुद्रा का अभ्यास कर सकते हैं। इस मुद्रा का अभ्यास अंगूठे के सिरे को अनामिका के सिरे से स्पर्श करके करें। एक बार में पांच मिनट के लिए मुद्रा को पकड़ें, और जैसे-जैसे आप सहज हों, समय बढ़ाएं। तीन सेट आदर्श हैं।

ज्ञान मुद्रा

इसे चिन मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है, यह मुद्रा गहरी विश्राम की भावना पैदा करती है। यह आपको तनाव और चिंता को दूर करने में मदद करता है।

gyan mudra
gyan mudra

आप अपनी पसंद के बैठे या खड़े आसन को ग्रहण कर सकते हैं। सुनिश्चित करें कि आप सहज हैं। अपनी तर्जनी को मोड़ें और सुनिश्चित करें कि तर्जनी की नोक अंगूठे की नोक से मिलती है। बाकी उंगलियां सीधी होनी चाहिए। अपनी आंखें बंद करें, गहरी सांस लें और आराम करें। जब भी आप तनाव महसूस करें और मौसम में इस मुद्रा का अभ्यास करें।

लिंग मुद्रा

 यह मुद्रा शरीर में अग्नि तत्व को उत्तेजित करती है। यह मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है और वजन कम करने में मदद करता है। कम वजन का मतलब स्थिर रक्त शर्करा है। इस मुद्रा को बैठकर या खड़े होकर भी किया जा सकता है।

linga mudra
linga mudra

आपको बस अपने हाथों को अपने सामने पकड़ना है, यह सुनिश्चित करना है कि आपकी उंगलियां आपस में जुड़ी हुई हैं। अपने बाएं हाथ के अंगूठे को ऊपर की ओर इंगित करें, और इसे अपने दाहिने हाथ के अंगूठे से लॉक करें। जब तक आप सहज हों तब तक मुद्रा को पकड़ें।

मधुमेह के लिए मुद्रा का अभ्यास करते समय ध्यान रखें

  1. किसी बीमारी के लिए योग करने से पहले हमेशा डॉक्टर से सलाह लें।
  2. भोजन के तुरंत बाद इन मुद्राओं का अभ्यास न करें।
  3. जब आप इन मुद्राओं का अभ्यास करते हैं तो आपके शरीर में ग्लूकोज का महत्वपूर्ण स्तर होना चाहिए।
  4. मुद्रा का अभ्यास करने का सबसे अच्छा समय या तो सुबह जल्दी या शाम को होता है – आमतौर पर सूर्योदय या सूर्यास्त
  5. यदि योग आपके लिए नया है, तो सुनिश्चित करें कि आप किसी प्रमाणित योग प्रशिक्षक के मार्गदर्शन में मुद्रा और आसन दोनों का अभ्यास करें।
इसे भी पढ़े -   माहवारी या मासिक धर्म के दर्द से बचने के उपाय Measures to avoid menstrual pain In Hindi Tips

आप को हमारा ये पोस्ट कैसा लगा ? निचे अपनी राय अवश्य दीजिये... जिस से हम आप को और भी बेहतर हिन्दी टिप्स दे सके - धन्यवाद