पुदीने के सेवन के 10 लाभ ☘️ 10 benefits of Peppermint intake

अगर हम रोज़मर्रा की भागदौड़ में अगर कुछ अच्छी आदतें शामिल करले तो स्वस्थ बहुत अच्छा हो सकता हैं यदि हम अपने खान -पान में सेहत को अच्छा बनाने वाली चीजें भी शामिल कर ले तो और भी अच्छा साबित होगा | जैसे की पुदीना | पुदीना (Peppermint) हमारे शरीर के लिए काफी हद तक लाभदायक होते हैं | इसका महत्व आयुर्वेद में भी बताया गया है। पुदीना एक गुणकारी पौधा है। इसकी पत्तियों का इस्तेमाल व्यंजनों का जायका बढ़ाने से लेकर कई शारीरिक समस्याओं के लिए प्राकृतिक औषधि (Medicine) के रूप में किया जाता है। इस पर हुए कई वैज्ञानिक अध्ययनों के आधार पर यह माना गया है कि पुदीना सेहत पर सकारात्मक प्रभाव दिखा सकता है।

पुदीना क्‍या है? ☘️What is Peppermint in Hindi

यह एक खुशबूदार पौधा हैं | भारत समेत विश्व के कई देशों में इसकी खेती की जाती है। पुदीना औषधीय गुणों के कारण इसका उपयोग स्वास्थ्य के लिए भी प्रभावी माना जाता है। पुदीना में एंटीमाइक्रोबियल, एंटीवायरस, एंटीऑक्सीडेंट और एंटीट्यूमर के साथ ही एंटी-एलर्जेनिक गुण पाए जाते हैं, जो संयुक्त रूप से शरीर को लाभ पहुंचाने का काम कर सकते हैं |

इसे भी पढ़े -   मनी प्लांट के बारे में पूरी जानकारी 🍃 Complete information about Money Plant

पुदीना के सेवन के फायदे ☘️ Benefits of intake Peppermint  in Hindi

  1. किसी व्यक्ति को बार-बार उल्टी आने की इच्छा ही मतली की समस्या है। यहां पुदीना के फायदे देखे जा सकते हैं। पुदीने के सेवन से इसकी परेशानी काफी हद तक कम हो जाती हैं |
  2. सिरदर्द की समस्या रातों की नींद गायब कर सकती है। इस समस्या को दूर करने के लिए पुदीना मददगार है।
  3. पेट की मांसपेशियों को आराम पहुंचाने के साथ-साथ पाचन में सहायक बाइल्स (पाचक रस) के बहाव में सुधार का काम करता है।
  4. पुदीना में पाया जाने वाला मेन्थॉल, बलगम को बाहर निकालने में मददगार हाे सकता है। यह जमे हुए कफ को बाहर निकालने में मदद कर सकता है और खांसी को कम करने में फायदेमंद हो सकता है। इसके अलावा, यह गले में खराश और सूखी खांसी को दूर करने में भी मदद कर सकता है |
  5. दांत के रोगियों में मुंह की दुर्गंध सबसे आम शिकायतों में से एक है। यह अक्सर पीड़ित व्यक्ति के लिए शर्मिंदगी का कारण बन सकती है। इस समस्या को दूर करने में भी पुदीना का उपयोग किया जा सकता है |
  6. बैक्टीरियल संक्रमण की वजह से त्वचा संबंधी कई रोग हो सकते हैं, जिनमें खुजली और जलन की भी है। यहां पुदीना के एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल और एंटीवायरल गुण त्वचा संबंधी समस्याओं को दूर करने में मददगार हैं |
  7. गर्भवती महिलाए प्रसव के समय पुदीने का रस पिलाने से प्रसव आसानी से हो जाता है।
  8. पेटदर्द और अरुचि में 3 ग्राम पुदीने के रस में जीरा, हींग, कालीमिर्च, कुछ नमक डालकर गर्म करके पीने से लाभ होता है।
  9. पुदीने को पानी में उबालकर थोड़ी चीनी मिलाकर उसे गर्म-गर्म चाय की तरह पीने से बुखार दूर होकर बुखार के कारण आई निर्बलता भी दूर होती है।
  10. मिनरल्स (Minerals) से भरपूर पुदीना विटामिन-सी (Vitamin C) का भी अच्छा स्रोत है। इसकी कई किस्में हैं, जिसमें पिपरमिंट और स्पीयरमिंट सबसे ज्यादा उपयोग में लाया जाता है। आयुर्वेद में पुदीने को वायुनाशक जड़ी-बूटी के रूप में देखा जाता है, जो सीने में जलन, मितली आदि में राहत देता है |