किरायेदार लगवा सकेंगे प्रीपेड मीटर, 5 पॉइंट में समझें पूरी योजना – Interested tenants of Delhi who want to get a prepaid meter at their rented house

घर बैठे ही कर सकेंगे बिजली मीटर के लिए अप्लाई

Prepaid Meter Recharge – BRPL – BSES Rajdhani

अब नया बिजली कनेक्शन और मीटर लेने के लिए लोगों को बिजली दफ्तरों के लिए ना तो लंबी दूरी नापनी पड़ेगी और ना ही बार-बार चक्कर काटने पड़ेंगे। ना दफ्तरों में पहुंचकर लाइन में लगना होगा। घर बैठे ही लोग कनेक्शन और मीटर के लिए अप्लाई कर सकेंगे। इसके लिए हरियाणा बिजली निगम ने ऑनलाइन योजना लागू की है।

Smart prepaid meters to replace your electricity bills इस संबंध में सभी जिला के बिजली मुख्यालयों को भी पत्र जारी हो चुके हैं। Online Apply के लिए विभाग ने अपनी तैयारी भी पूरी कर ली है। बिजली विभाग की साइट पर जाकर सीधे Online Apply Request आवेदन करना होगा। औपचारिकताएं पूरी होते ही हफ्ते के भीतर कनेक्शन जारी होगा। इसमें सभी तरह की कैटेगरी के लिए आवेदन आॅनलाइन किए जाएंगे। हालांकि, इंडस्ट्री के लिए आॅनलाइन आवेदन करने की सुविधा पहले से थी। लेकिन अब खास बात यह है कि अब बिजली निगम मैन्युअल तरीके से कनेक्शन फाइल नहीं लेगा। जिले में 18 अप्रैल 2021 से मैन्युअल आवेदन लेना बंद कर दिया है।

इसे भी पढ़े -   ताजमहल प्रेम का प्रतिक और पर्यटन करने के सुझाव ? Taj Mahal ? The symbol of Love ? History & Tourism Tips in Hindi

बचेगा समय, बिचौलियों से छुटकारा:

बिजलीनिगम ने आमजन की सहूलियत और विभागीय कार्य में पारदर्शिता लाने के लिए यह कदम उठाया है। विभाग के इस कदम से जहां उपभोक्ताओं का समय बचेगा। वहीं, आर्थिक परेशानी से भी राहत मिलेगी। पहले जहां कनेक्शन लेने के लिए उपभोक्ताओं को 15 से 20 दिन में नए कनेक्शन के लिए इंतजार करना पड़ता था। अब हफ्ते में उपभोक्ताओं को नया कनेक्शन मिल जाएगा।

ऑनलाइन होने से उपभोक्ताओं को बिचौलियों से भी छुटकारा मिलेगा। वहीं, विभागीय कार्यप्रणाली में भी पारदर्शिता आएगी।

यूंकरें आॅनलाइन आवेदन: उपभोक्ताओंको सबसे पहले निगम की वेबसाइट डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डॉट यूएचबीवीएन डॉट ओआरजी डॉट इन पर क्लिक करना होगा। उसके बाद उपभोक्ता के सामने विभाग की साइट खुलेगी। उपभोक्ता को साइट पर दिए गए सर्विस ऑप्शन पर जाना होगा। सर्विस ऑप्शन पर आने के बाद कनेक्शन रिलेटेड ऑप्शन पर जाकर न्यू कनेक्शन पर क्लिक करना होगा। इसके उपरांत उपभोक्ताओं से कुछ जानकारी मांगी जाएगी। जानकारी भरने के बाद उपभोक्ता को सबमिट बटन पर क्लिक करते ही उसका आवेदन स्वीकार कर लिया जाएगा।

विभागका सराहनीय कदम: समाजसेवीफतेहसिंह खेड़ी रामनगर जरनैल सिंह और बीकानेर स्वीट्स के संचालक मोहन सिंह कहते हैं कि विभाग की यह योजना सराहनीय है। इससे उपभोक्ताओं का समय बचेगा।

साथ ही उन्हें बिजली विभाग के चक्कर नहीं काटने होंगे। कई बार अधिकारी नहीं मिलते, तो कभी कर्मचारी सीट पर नहीं होते। ऐसे में उपभोक्ताओं को दोबारा ही आना पड़ता।

इसे भी पढ़े -   क्या हैं लिव इन रिलेशनशिप, जानिए भारत में इसका क्या हाल हैं? ? What are Live in Relationships, know how is it in India? in Hindi

बिजली निगम के अधीक्षक अभियंता वीएस मान ने इसकी पुष्टि की। कहा कि आमजन को राहत देने के लिए बिजली निगम ने ऑनलाइन सुविधा शुरू की है। कोई भी उपभोक्ता घर बैठे नेट पर विभाग की साइट पर जाकर अप्लाई कर सकता है। लोगों को फाइल बनवाकर कार्यालय के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। ऑनलाइन प्रणाली से विभाग के काम करने में पारदर्शिता भी आएगी।

Bses Prepaid Meter Balance Check, Bses Prepaid Meter Charges, Bses Prepaid Meter Recharge, How To Apply For Prepaid Electricity Meter In Delhi, Bses Prepaid Meter Bill, Bses Pre-Paid Meter New Connection, Bses Prepaid Meter Customer Care Number, Prepaid Meter Recharge Online

मैन्युअल नहीं- सिर्फ आॅनलाइन आवेदन

नईयोजना के तहत अब घर बैठे ही उपभोक्ता आॅनलाइन कनेक्शन वास्ते अप्लाई कर सकेंगे। जिले में बिजली निगम ने 18 अप्रैल से नई व्यवस्था के तहत मैन्युअल आवेदन लेना ही बंद कर दिया है। हालांकि, जिन उपभोक्ताओं को मैन्युअल आवेदन नहीं करना आता है, उन्हें बाकायदा विभाग में हेल्प मिलेगी। इसके लिए हेल्प डेस्क भी स्थापित किया है। मैन्युअल फाइल लेकर पहुंचने वाले उपभोक्ताओं के आवेदन साथ के साथ ही बिजली कार्यालयों में ऑनलाइन अप्लाई कराए जाएंगे। ऑनलाइन अप्लाई होने के बाद अपनी फाइल का स्टेट्स भी जान सकेंगे।

पहले कागजी कार्रवाई में खपता था समय

इससेपहले उपभोक्ताओं को मीटर लगवाने के लिए संबंधित बिजली डिवीजन कार्यालय में जाकर फाइल बनवानी पड़ती थी। फाइल बनवाने के लिए उपभोक्ताओं को तीन से चार दिन कार्यालय में विभागीय अधिकारियों के साइन कराने ऑब्जेक्शन को क्लीयर कराने की कई औपचारिकताएं पूरी करनी पड़ती हैं। फाइल बनवाने पर भी 200 से 250 रुपए तक खर्च अलग से आता। फाइल के कार्यालय में जमा होने के बाद उपभोक्ताओं को बार बार कार्यालय में आकर फाइल का स्टेट्स जानना पड़ता था। जिसके चलते उन्हें परेशानी झेलनी पड़ती थी।

इसे भी पढ़े -   जानिए क्या कारण हैं कि बिजनेस डिग्री एक सही विकल्प क्यों है - Know What Are The Reasons Why A Business Degree Is A Right Choice

अभी 2.50 लाख कनेक्शन

जिलेभर में अभी करीब ढ़ाई लाख उपभोक्ताओं के पास वैध कनेक्शन हैं। जिनमें सर्वाधिक डोमेस्टिक कनेक्शन हैं। डोमेस्टिक के जिले में इस समय एक लाख 80 हजार कनेक्शन हैं। जबकि, कमर्शियल के लिए करीब 31 हजार, पब्लिक हैल्थ के 800 कनेक्शन, स्ट्रीट लाइट्स के 211 कनेक्शन और इंडस्ट्री की दोनों कैटेगरी में 2,500 कनेक्शन तथा कृषि ट्यूबवैल के 40 हजार कनेक्शन हैं। कुरुक्षेत्र| घरोंमें बिजली कनेक्शन लगाते बिजली कर्मी।